Vasudhara Fall Trek Uttarakhand [पूरी जानकारी]

यहाँ पर हम आपको Vasudhara Fall, Location of Vasudhara Fall, Story of Vasudhara Fall, Vasudhara Fall distance, Vasudhara Fall trek आदि सभी के बारे में पूरी जानकारी देंगे।

Vashudhara Fall भारत का एक रहस्यमय झरना है, जिसे केवल कुछ विशिष्ट लोग ही देख पाते हैं। ऐसा माना जाता है कि यह झरना पापी मनुष्यों को छूने तक नहीं देता। अर्थात पापी लोगों पर इस झरने की बूंद तक नहीं पड़ती है।

इस अलौकिक झरने को देखने का मौका बहुत कम लोगों को ही मिल पाता है। यह भारत का एक रहस्यमयी और अनोखा प्राकृतिक आश्चर्य है।

Vasudhara Uttarakhand राज्य के चमोली जिले में Shree Bdrinath Dham से 9 km की दुरी पे स्थित एक जलप्रपात है। इस स्थान की समुंद्र तल से ऊंचाई लगभग 1500 मीटर(4900 फीट )है।  

यह उत्तरकाशी जिला मुख्यालय से लगभग 100 किलोमीटर दूरी पर है। Vasudhara Fall Chamoli के मोरी तहसील में माणा गांव में स्थित है।

Vasudhara अपने खूबसूरत झरनों और मंदिरों के लिए प्रसिद्ध है। यहां पर एक तीन स्तरीय झरना भी है जो कि गांव से लगभग 2 किलोमीटर की दूरी पर है।

Vasudhara Fall (तीन स्तरीय झरना)

यह झरना पर्यटकों के लिए एक मुख्य आकर्षण का केंद्र भी है जो अपनी प्राकृतिक सुंदरता के लिए जाना जाता है। यह झरना लगभग 100 मीटर यानी 330 फीट ऊंचा है जो कि 3 स्तरों में विभाजित है।

पहला स्तर सबसे ऊंचा है जो कि 40 मीटर का है। वही दूसरा और तीसरा जो कि सबसे निचला स्तर है वह लगभग 20 मीटर ऊंचा है। इसी कारण इस झरने को तीन स्तरीय झरना कहा जाता है।

Best Time To Visit Vasudhara Fall

यह झरना Uttarakhand के सबसे ऊंचे झरनों में से एक है जोकि मंदाकिनी नदी से पोषित होता है। यहां वैसे तो कई मंदिर है परंतु यहां एक हिंदू मंदिर है जहां पर देवी वसुधारा विराजमान है। लोगों का ऐसा मानना है कि यह मंदिर लगभग 1000 साल या उससे अधिक पुराना हो सकता है।

अगर आप यहां जाने की सोच रहे हैं तो यहां जाने का Best Time गर्मियों के महीनों (April – June) या फिर आप सर्दियों की महीने (October – March) के बीच में कभी भी जा सकते हैं।

गर्मियों की महीने में आपको यहां स्थित धर्मों का अनुपम दृश्य दिखाई देगा और इस दौरान यहां का मौसम बेहद सुहावना रहता है। अगर आप यहां सर्दियों के महीनों के दौरान जाते हैं तो आपको यहां स्थित बर्फ के बड़े-बड़े ढके पहाड़ देखने को मिलेंगे जो आपको मंत्र मुक्त कर देंगे।

यहां जाने का Best Time सुबह और शाम का माना जाता है। दिन के इस समय मौसम ठंडा होता है और दृश्य अधिक सुंदर होते हैं। इस स्थान को यहां के घने जंगल और हरे-भरे वनस्पति सुंदर बनाते हैं।

vasudhara-fall-

कई लोगों का यह भी मानना है इस झरने का पानी रोगों को दूर करने की क्षमता रखता है और जिस किसी भी व्यक्ति पर इस झड़ने की बूंदे गिरती है। उसके सभी रोग दूर हो जाते हैं। परंतु यह मान्यता है कि झरने का पानी केवल उन्हीं लोगों पर गिरता है जिन्होंने अपने संपूर्ण जीवन में कोई भी पाप नहीं किया हो।

यह अपनी प्राकृतिक सुंदरता, धार्मिक महत्व और सांस्कृतिक विरासत के लिए एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल है। झरनों से निकलने वाली धुंध एक ताज़ा और तरोताज़ा करने वाला माहौल बनाती है।

Vasudhara Fall kaise jaye

यहां जाने का सबसे अच्छा तरीका यह है कि सबसे पहले आप Dehradun पहुंचे और वहां से Vashudhara गांव के लिए taxi ले सकते हैं फिर Vasudhara गांव से आप झरने तक की यात्रा private taxi में कर सकते हैं जो कि आपको गांव में ही उपलब्ध हो जाएंगी।

यहां से आपको झरने तक जाने के लिए लगभग 30 मिनट लगते हैं। Vasudhara Fall तक पहुंचने के लिए आपको थोड़ी सी पैदल चढ़ाई भी करनी होगी। यह झरना घने जंगलों से घिरे होने के कारण यहां पर कोई पक्का रस्ता निर्मित नहीं किया गया है। आपको आसपास चलते समय सावधानी बरतनी जरूरी है क्योंकि झरने के आसपास की जगह फिसलन भरी होती है।

Vasudhara Fall से निकटतम railway station Dehradun है। जो कि यहां से लगभग 150 km दूर है और Dehradun में स्थित Jolly Grant Airport यहां का निकटतम Airport है। जो कि यहां से लगभग 160 किलोमीटर दूर है।

जब आप माना गांव से इस धरने की ओर प्रस्थान करते हैं तो आपको रास्ते में सरस्वती मंदिर के दर्शन होंगे। जहां से आपको फिर झरने की ओर 2 किलोमीटर की ट्रैकिंग करके जानी  होगी। जहां का रास्ता बेहद कठोर और पथरीलु है। 

Vasudhara Fall Story in Hindi

Vasudhara Fall के बारे में कई कहानियां प्रचलित है। इनमें से सबसे प्रसिद्ध कहानी यह है कि झरने जाने का निर्माण स्वयं देवी Vasudhara नहीं किया। वह गांव के चरवाहे की भक्ति से अत्यंत प्रसन्न हुई और उन्होंने पूरे गांव को इस झरने के माध्यम से ताजा पानी उपलब्ध कराया।

कई अन्य कथाओं के अनुसार इस झरने के बारे में कहते हैं कि इसका पानी पापी व्यक्तियों के तन पर पड़ते ही गिरना बंद कर देता है। इस झरने की सबसे खास बात तो ये है, धारा के नीचे खड़े होने वाले हर व्यक्ति पर इसका पानी नहीं गिरता। जिस व्यक्ति द्वारा पाप किए गए हैं उस व्यक्ति पर झरने की एक बूंद भी नहीं पड़ती।

माना जाता है कि अगर इस झरने की बूंद किसी भी व्यक्ति पर गिर जाए तो समझ जाएं उस व्यक्ति ने जीवन में पुण्य का काम किया है। अगर बात करें महाभारत काल की तो पांच पांडवों में से एक सहदेव ने इसी स्थान पर अपने प्राण त्याग दिए थे।

Conclusion

Vasudhara Fall पने खूबसूरत झरनों और मंदिरों के लिए प्रसिद्ध है। आपको एक बार जरूर इस Vasudhara Fall में जाना चाहिए। यहाँ बहते पानी की मधुर ध्वनि सुकून देने वाली होती है। Vasudhara Fall पहुंचकर आपको अगल हे शांति अनुभव होगी।

FAQs (Vasudhara Fall trek)

Where is Vasudhara Fall?

Vasudhara Uttarakhand राज्य के चमोली जिले में Shree Bdrinath Dham से 9 km की दुरी पे स्थित एक जलप्रपात है।

What about Vasudhara Fall Magic?

Vashudhara Fall भारत का एक रहस्यमय झरना है, जिसे केवल कुछ विशिष्ट लोग ही देख पाते हैं। ऐसा माना जाता है कि यह झरना पापी मनुष्यों को छूने तक नहीं देता। अर्थात पापी लोगों पर इस झरने की बूंद तक नहीं पड़ती है।

Best Time To go Vasudhara Fall?

Vasudhara Fall जाने का Best Time गर्मियों के महीनों (April – June) या फिर आप सर्दियों की महीने (October – March) के बीच में कभी भी जा सकते हैं।

Is the Vasudhara Fall trek is difficult?

माना गांव से Vasudhara Fall तक total trek लगभग 2-3 hr का है। शुरुआत के 2 से 3 किलोमीटर तक का यह trek आसान है। चेहरे पर क्यों सोतेपरंतु जैसे-जैसे हैं आप आगे बढ़ते जाएंगे treking का level difficult होता जाएगा।
Vasudhara Fall तक पहुंचने के लिए आपको थोड़ी सी पैदल चढ़ाई भी करनी होगी। यह झरना घने जंगलों से घिरे होने के कारण यहां पर कोई पक्का रस्ता निर्मित नहीं किया गया है।

What is the story of Vasudhara Fall?

Vasudhara Fall के बारे में कई कहानियां प्रचलित है। इनमें से सबसे प्रसिद्ध कहानी यह है कि झरने जाने का निर्माण स्वयं देवी Vasudhara नहीं किया। वह गांव के चरवाहे की भक्ति से अत्यंत प्रसन्न हुई और उन्होंने पूरे गांव को इस झरने के माध्यम से ताजा पानी उपलब्ध कराया।

Leave a Comment