Uttarakhand Best Trekking destinations | उत्तराखंड में पैदल यात्रा

अगर Trekking की बात हो और मुँह पर Uttarakhand का नाम न आये तो ऐसा संभव नहीं हैं। इस blog के माध्यम से आप उत्तराखंड में Best Uttarakhand Trekking destinations जान पाएंगे।

उत्तराखंड में ऐसी कई जगह है जहां पर आप trekking कर सकते हैं जिनमें से कुछ प्रमुख की जानकारी नीचे दी गई है।

UTTARAKHAND TREKKING DESTINATIONS

यहां हम उत्तराखंड की Best UTTARAKHAND TREKKING DESTINATIONS के बारे में जानेंगे और देखेंगे कि आप उत्तराखंड में कहां कहां TREKKING कर सकते हो।

उत्तराखंड में TREKKING करने का मजा ही कुछ और है उत्तराखंड में TREKKING करने के साथ-साथ बहुत सारे मंदिरों के दर्शन कर सकते हैं, उत्तराखंड के कुछ मंदिर ऐसे हैं जहां पर आप TREKKING करके ही पहुंच सकते हैं।

Yamunotri Dodital Trek (डोडीताल यमुनोत्री ट्रेक)

Yamunotri-Dodital-Trek

अगर आप यहां पर trek करना चाहते हैं तो आपके पास कम से कम 5 से 6 दिन का समय होना चाहिए क्योंकि इतना समय यहां पर घूमने के लिए लग ही जाएगा।

यह एक 6 दिनों का ट्रेकिंग मार्ग है। इसकी कुल लंबाई लगभग 47 किमी है।

यह सुंदर पर्वतीय दृश्यों, घने जंगलों और नदियों के किनारे से गुजरता है। इस यात्रा में यमुनोत्री और डोडीताल दोनों स्थानों का भ्रमण किया जा सकता है। यह अनुभवी और नए ट्रेकरों दोनों के लिए उपयुक्त है।

यह trek आप हनुमान चट्टी, उत्तरकाशी या कल्याणी से शुरू कर सकते है।

यह समुद्र तल से 10804 ft की ऊंचाई पर स्थित है। यह trek करने में इतना भी मुश्किल नहीं है यहां पर जाने का सबसे अच्छा समय March से लेकर June तक का बताया जाता है।

Gangotri Gaumukh Trek (गंगोत्री गोमुख ट्रैक)

Gangotri-Gaumukh-Trek

दोस्तों गंगोत्री गोमुख ट्रैक भी उत्तराखंड का एक प्रमुख trek है। जो यात्रियों को बहुत लुभाता है अगर यहां पर आप जाने की सोच रहे हैं तो कम से कम 8 दिन का समय आप निकाल ले।

गंगोत्री गोमुख ट्रेक उत्तराखंड का एक प्रमुख और लोकप्रिय ट्रेकिंग मार्ग है। यह ट्रेक भगीरथी नदी के स्रोत गोमुख तक जाता है। यह यात्रा गंगोत्री से शुरू होती है जो कि भगीरथी नदी का उद्गम स्थल है और हिंदुओं के लिए बहुत ही पवित्र स्थल माना जाता है।

इसके बाद ट्रेक बनाफशा के रास्ते होते हुए गोमुख ग्लेशियर तक जाता है। पूरे रास्ते में खूबसूरत पहाड़ियों, हरे-भरे घास के मैदान, बर्फ से ढ़के शिखर और नीले आसमान के बीच से गुजरते हुए अनुभव किया जा सकता है।

यह Trek, Gangotri से हे प्रारंभ होता हैं। इस trek को करने के लिए आपको पहले Gangotri आना पड़ेगा।

अगर बात करें समुद्र तल से ऊंचाई की तो वह लगभग 13200 ft है। चढ़ाई शुरू में तो आसान है परंतु जैसे ही आप ऊपर की ओर चढ़ाई करेंगे उसका difficulty level बढ़ता जाएगा।

April से June आपके लिए यहां घूमने के लिए best रहेगा और September से October के बीच में भी आप यहां पर trekking कर सकते हैं।

roopkund trek (रूपकुंड ट्रेक)

Roopkund-trek

अगर आप Uttarakhand में आए तो रूपकुंड ट्रेक जाना ना भूलें, क्योंकि इसको पूरा करने के लिए लगभग 8 दिन का समय लगता ही है।

Roopkund trek का प्रारंभिक बिंदु Lohajang Pass (लोहाजंग दर्रा) है।

इसकी ऊंचाई की बात करें तो वह लगभग समंदर से 14882 ft ऊंचाई पर स्थित है। यहां का दृश्य बहुत ही सुंदर व मन को छूने वाला है।

रूपकुंड ट्रेक उत्तराखंड का एक प्रसिद्ध और रोमांचक ट्रेकिंग मार्ग है। यह चमोली जिले में स्थित एक प्राचीन झील रूपकुंड के लिए जाना जाता है। इस ट्रेक की शुरुआत लोहाझंग से होती है और ग्लेशियर, घाटियों तथा पहाड़ियों के बीच से होते हुए रूपकुंड तक जाता है।

रूपकुंड झील के आस-पास सैकड़ों मानव कंकाल पाए गए हैं जो इस झील को और भी रहस्यमय बना देते हैं। यह ट्रेक कठिनाई के मामले में मध्यम से लेकर कठिन स्तर का माना जाता है। यहां की विलक्षण प्राकृतिक छटा और पहाड़ी गांवों की संस्कृति से रूबरू होने का अनोखा अनुभव मिलता है।

परंतु इसका difficulty level बहुत ही ज्यादा मुश्किल है परंतु trek पूरा करने के बाद आपको लगेगा की यहां आना सार्थक हुआ अगर आप adventure lover हैं, तो यहां पर आप जरूर जाएं यहां पर आपका experience बहुत ही अच्छा होगा और आप यहां पर फिर से आना चाहेंगे।

यहां पर आने का सबसे अच्छा महीना June माना जाता है, इस महीने में आप यहां ट्रेकिंग के लिए आ सकते हैं।

Kedarnath trek(केदारनाथ ट्रैक)

Kedarnath-trek

दोस्तों उत्तराखंड की बात हो और Kedarnath का नाम ना आए ऐसा तो हो ही नहीं सकता। अगर आप केदारनाथ के दर्शन करने जा रहे हैं तो आपको 5 दिन का समय अवश्य निकाल कर आएं।

Kedarnath का trek गौरीकुंड से शुरु होता है, गौरीकुंड से केदारनाथ की दूरी 16 km है।

Kedarnath Trek की समुद्र तल से ऊंचाई लगभग 11750 ft है। जहां trekking करने का difficulty level, Easy to Tough होने वाला है और Kedarnath जाने के लिए सबसे best महीना April से June तक का है तो आप यहां पर एक बार जरूर जाए।

Pindari Glacier Trek (पिंडारी ग्लेशियर ट्रैक)

Pindari-Glacier-Trek

उत्तराखंड का एक famous place है, पिंडारी ग्लेशियर जहां पर आप tracking के साथ-साथ snowfall का भी आनंद ले सकते हैं। नंदा कोट पीक और नंदा देवी पीक के बीच स्थित है यह पिंडारी ग्लेशियर ट्रेक।

Pindari Glacier Trek लगभग 60 km यह trek उत्तराखंड के बागेश्वर जिले के कपकोट क्षेत्र से 50 km दूर खड़किया नाम के एक गाँव से शुरू होता है

अगर आपको यहां जाना है तो आपको 7 दिन का समय अवश्य निकालना पड़ेगा। अगर बात करें इसकी ऊंचाई की, लगभग 12300 ft है।

अगर आपको बर्फबारी देखने का बहुत शौक है व snowfall बहुत ज्यादा पसंद है तो यहां पर एक बार आप जरूर आए। अगर बात करें इसके difficulty level की तो यह Medium to High होने वाला है। यानी शुरू में तो आपको इतनी कठिन आया नहीं लगेगी परंतु जैसे ही आप आगे बढ़ते जाएंगे वैसे ही trek और भी ज्यादा मुश्किल होता जाएगा।

अगर आप adventure lover है, वह आपको snowfall भी बहुत ज्यादा पसंद है, तो आप यहां पर एक बार जरूर जा सकते हैं और अगर बात की जाए यहां पर जाने का October का महीना सबसे अच्छा माना जाता है।

Nag Tibba Trek (नाग टिब्बा ट्रेक)

Nag-Tibba-Trek

जिन लोगों को भी trekking पसंद है, उन लोगों के लिए नाग तिब्बा ट्रैक बहुत ही सुंदर जगह है। अगर आपके पास समय कम है तो यहां पर जा सकते हैं यहां पर जाने के लिए कम से कम 2 दिन का समय लगता है।

इस trek के रास्ते के दौरान आपको केदारनाथ पीक, बंदरपंच पीक और गंगोत्री पीक्स के खूबसूरत नज़ारे देखने को मिलेंगे।

बात की जाए इस की समुद्र तल से ऊंचाई की तो वह लगभग 9915 ft है। यहां पर trekking करना आसान है व यहां पर हर कोई घूमने व trekking का आनंद ले सकता है।

यहां पर जाने के लिए April व June का महीना सबसे best रहता है।

Vally Of Flower Trek (वैली ऑफ फ्लावर्स ट्रैक)

Vally-Of-Flower

फ्लावर ट्रैक का मतलब यह है कि यहां पर आपको trekking के दौरान बहुत सी प्रजातियों के फूल देखने को मिल जाते हैं।

Vally Of Flower Trek, उत्तराखंड का एक बेहद खूबसूरत और प्रसिद्ध ट्रेकिंग मार्ग है। यह नंदा देवी बायोस्फीयर रिज़र्व के अंदर स्थित एक घाटी है जहाँ कई दुर्लभ और बहुरंगी फूल देखने को मिलते हैं।

इस ट्रेक की शुरुआत गोविंद घाट से होती है और यह घने जंगलों, झरनों और फूलों की घाटियों से होते हुए वैली ऑफ फ्लावर्स तक ले जाता है।

यहां ब्रह्मकमल, ब्लू पॉपी, कोबरा लिली जैसे फूल देखे जा सकते हैं। यह ट्रेक मध्यम कठिनाई वाला है और इसे पूरा करने में 6-7 दिन लगते हैं। अपनी मनमोहक सुंदरता के लिए यह ट्रेक प्रकृति प्रेमियों और पर्यटकों के बीच काफी लोकप्रिय है।

यहां पर trekking करने के लिए June से लेकर October का है अगर आप एक Nature lover हैं तो यहां पर आपको जरूर जाना चाहिए।

Nanda Devi trek (नंदा देवी ट्रैक)

Nanda-Devi-trek

नंदा देवी ट्रेक उत्तराखंड राज्य में स्थित एक लोकप्रिय ट्रेकिंग मार्ग है। इसका नाम नंदा देवी से लिया गया है, जो भारत में दूसरा सबसे ऊंचा पर्वत है।

नंदा देवी ट्रेक उत्तराखंड का एक मशहूर और चुनौतीपूर्ण ट्रेकिंग मार्ग है। यह दुनिया की सबसे ऊंची पर्वत श्रृंखलाओं में से एक नंदा देवी पर्वत श्रृंखला के लिए जाना जाता है।

इस ट्रेक की शुरुआत लाता गांव से होती है और यह घने जंगलों, खूबसूरत वादियों तथा ऊंची चोटियों से होते हुए नंदा देवी बेस कैंप तक जाता है।

नंदा देवी पर्वत पर सुंदर तालाब, ग्लेशियर और बर्फ से ढके शिखर देखने को मिलते हैं। यह ट्रेक मध्यम से लेकर उच्च कठिनाई वाला है और इसे पूरा करने में 15-20 दिन लगते हैं। यह ट्रेक हिमालय की अनूठी सुंदरता का अनुभव करने के लिए एक यादगार अनुभव प्रदान करता है।

ट्रेक बर्फ से ढकी चोटियों, अल्पाइन घास के मैदानों और प्राचीन झीलों के लुभावने दृश्य प्रस्तुत करता है, यहां पर trekking करने के लिए May से लेकर June का है।

conclusion

उत्तराखंड एक बहुत ही सुंदर राज्य जहां पर घूमने व trek के लिए बहुत सारे स्थान हैं लेकिन जो सबसे प्रसिद्ध और सबसे सुंदर है उनकी सूची हमने यहां पर आपको दी है। आप इनके अनुसार अपने Trip/ Trek का plan बना सकते हैं।

Nag Tibba Trek जाने का best time क्या हैं ?

Nag Tibba Trek जाने के लिए April व June का महीना सबसे best रहता है।

Pindari Glacier Trek (पिंडारी ग्लेशियर ट्रैक) के लिए कितने दिन का समय लगेगा ?

Pindari Glacier Trek के लिए आपको 7 दिन का समय अवश्य निकालना पड़ेगा। इसकी ऊंचाई, लगभग 12300 ft है।

Yamunotri Dodital Trek (डोडीताल यमुनोत्री ट्रेक) कहाँ से start कर सकते हैं ?

यह trek आप हनुमान चट्टी, उत्तरकाशी या कल्याणी से शुरू कर सकते है।

मेरा नाम Dikshita Rawat है, और मैं उत्तराखंड की रहने वाली हूँ। JankariUttarakhand.com Blog के माध्यम से आप लोग उत्तराखंड से जुड़ी सारी जानकारी प्राप्त कर पाएंगे तथा उत्तराखंड की संस्कृति को और अच्छे से समझ पायेंगे।

Leave a Comment