Kedarnath Dham | केदारनाथ धाम

यहां पर उत्तराखंड के विश्व प्रसिद्ध मंदिर Kedarnath Dham के बारे में संपूर्ण जानकारी दी गई है इस लेख के माध्यम से केदारनाथ धाम के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे।

केदारनाथ धाम को भगवान शिव का धाम कहा जाता है आज भी मान्यता है कि भगवान शिव यहां खुद निवास करते हैं।

उत्तराखंड में हिमालय पर्वत की गोदी में स्थित केदारनाथ मंदिर 12 ज्योतिर्लिंग में से एक है तथा केदारनाथ धाम उत्तराखंड के चार धाम में से एक है और पंच केदार में से एक केदारनाथ धाम है।

केदारनाथ धाम आप किस प्रकार जा सकते हैं कब केदारनाथ के कपाट खोले जाते हैं और कब से कब तक आप केदारनाथ में दर्शन कर सकते हैं इसके बारे में जानकारी मिलेगी।

चलिए हम केदारनाथ धाम के बारे में विस्तार से जानकारी प्राप्त करते हैं और ओम नमः शिवाय बोलते हुए केदारनाथ धाम की यात्रा शुरू करते हैं –

Kedarnath Dham uttarakhand

पुराणों के अनुसार, प्रकृति के कल्याण हेतु भगवान् शिव 12 जगह ज्योतिर्लिंग के रुप में प्रकट हुए। इनमे से एक ज्योतिर्लिंग केदारनाथ भी है।

केदारनाथ भारत के उत्तराखंड राज्य के रुद्रप्रयाग ज़िले मे स्थित है। उत्तराखंड के पांच धाम – केदारनाथ, रुद्रनाथ, कल्पेश्वर, मध्येश्वर, व तुंगनाथ है। केदारनाथ उत्तराखंड के पंच केदार व चार धामों मे से एक धाम है।

कहा जाता है की इस मंदिर की स्थापना पाण्डव वन्शज जन्मजेय के द्वारा हुई है परन्तु कुछ लोगों के अनुसार इसका निर्माण श्री आदि गुरु शंकराचार्य जी के द्वारा हुआ था ।

गुरु शंकराचार्य को भगवन शिव का अवतार माना जाता है, इन्होने चार मठों की स्थापना की थी – श्रृंगेरी मठ, गोवर्धन मठ, शारदा मठ, ज्योतिर मठ

केदारनाथ धाम तीनो तरफ से पहाड़ो से घिरा हुआ है। एक तरफ 22000 फुट ऊंचा Kedarnath पर्वत हैं , 21600 फुट ऊंचा खरचाकुण्ड, व 22000 फुट ऊंचा भरतकुण्ड है। यहाँ पाँच नदियों का संगम मन्दाकिनी, मधुगंगा, क्षीरगंगा, सरस्वती, औऱ स्वर्णगौरी है।

ये धाम मन्दाकिनी नदी किनारे 3581 मीटर की ऊंचाई मे स्थित है। इसे 1000 वर्षों से भी पुराना माना जाता है। मंदिर की उचाई 85 फ़ीट ऊंचा और 187 फ़ीट चौड़ा है। इसकी दीवारें 12 फ़ीट मोटी है। ये मंदिर उत्तराखंड का विशाल व सबसे खूबसूरत मंदिरो मै से एक है। मंदिर के कपाट साल मे केवल 6 महीनो के लिए ही खोले जाते है।

Kedarnath Temple open

2023 मे बाबा Kedarnath Dham के कपाट 25 अप्रैल को 6 बजकर 20 मिनट पर खुलेंगे।

उत्तराखंड में स्थित विश्व प्रसिद्ध मंदिर केदारनाथ धाम के कपाट वैशाखी के बाद खोले जाते हैं जो कि लगभग 6 माह तक यात्रा और दर्शन के लिए खुले रहते हैं।

केदारनाथ धाम के कपाट वैशाखी को खुलने के बाद 6 माह के लिए भाई दूज वाले दिन को बंद किये जाते हैं।

कहा जाता है की कपाट बंद करते समय मंदिर के पुजारी मंदिर मैं एक दीपक जलाता है जो दीपक बाकि 6 महीनो तक स्वतः ही प्रज्वलित रहता है।

Kedarnath ki yatra

अगर आप केदारनाथ धाम की यात्रा करना चाहते हैं तो आपको सबसे पहले केदारनाथ धाम के लिए Registration करवाना अनिवार्य होगा क्योंकि Registration के बाद ही आप Kedarnath Dham जा सकते हैं।

2014 में आई बाढ़ के बाद उत्तराखंड सरकार ने केदारनाथ धाम में यात्रा के लिए Registration को अनिवार्य कर दिया है आप एक बार Registration करवा कर, भोलेनाथ के दर्शन करने केदारनाथ जा सकते हैं।

Kedarnath Dham Registration

चार धाम यात्रा के लिए Registration करवाने के लिए उत्तराखंड सरकार ने एक टोल फ्री नंबर जारी किया है आप उस टोल फ्री नंबर के माध्यम से चार धाम यात्रा का रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं।

उत्तराखंड सरकार के अनुसार अभी तक 1500000 से अधिक श्रद्धालु चार धाम यात्रा का Registration करवा चुके हैं – टोल फ्री नंबर 1364 (उत्तराखंड से) या 0135-1364 या 0135-3520100 पर कॉल करके पंजीकरण कराया जा सकता है।

Kedarnath tour (केदारनाथ कैसे जाएँ)

केदारनाथ धाम के मंदिर तक पहुंचने के लिए श्रद्धालुओं को 16 किलोमीटर की कटिंग यात्रा करनी पड़ती है तीर्थयात्री केदारनाथ मंदिर तक पहुंचने के दो रास्ते उपयोग में लेते हैं।

आप केदारनाथ धाम जाने के लिए track कर सकते हैं अगर आप सड़क मार्ग से केदारनाथ धाम जा रहे हैं तो आप पालकी, पिट्ठू, तथा घोड़े के माध्यम से केदारनाथ धाम तक की यात्रा कर सकते हैं

इसके उपरांत आप फाटा helipad से helicopter सेवा का अनुभव भी कर सकते हैं जो आपको केदारनाथ धाम की यात्रा करवाएगा।

Kedarnath Tour Plan (Days, Budget)

केदारनाथ धाम की यात्रा के लिए आपको कम से कम 5 दिन का समय देना चाहिए जिससे आप बहुत अच्छी तरह से केदारनाथ धाम के दर्शन तथा यात्रा का आनंद ले पाए।

केदारनाथ धाम की यात्रा के लिए आपको ₹7,000 से ₹10000 तक की धनराशि अपने पास रखनी चाहिए जो आपके यात्रा के खर्चे के लिए काम आएगी।

Kedarnath tour package

केदारनाथ धाम की यात्रा के लिए आप बहुत सारी travel agency के माध्यम से booking कर सकते हैं या आप खुद भी स्वयं से केदारनाथ धाम की यात्रा कर सकते हैं।

travel agency के माध्यम से परिवार के साथ केदारनाथ धाम की यात्रा की booking आप यहां से कर सकते हैं –

Kedarnath Dham Tour Booking

Kedarnath yatra by Helicopter

Helicopter द्वारा केदारनाथ धाम की यात्रा करने के लिए आप सबसे पहले केदारनाथ धाम के लिए Helicopter की Ticket book कर सकते हैं यह Ticket आप उत्तराखंड सरकार की official website या IRCTC की Website द्वारा कर सकते हैं।

आप अपनी इच्छा के अनुसार उत्तराखंड सरकार अथवा IRCTC भारत सरकार के द्वारा Helicopter Ticket Book करवा कर केदारनाथ धाम की यात्रा शुरू कर सकते हैं।

Conclusion

यहां पर हमने केदारनाथ धाम की यात्रा किस प्रकार की जा सकती है इसके बारे में विस्तार से जानकारी प्राप्त की तथा केदारनाथ धाम के बारे में भी हमने बहुत कुछ जाना।

हमें उम्मीद है कि आपको यह लेख जिससे आपको केदारनाथ के बारे में जानकारी प्राप्त हुई पसंद आया होगा।

FAQs (Kedarnath Dham)

क्या हम Kedarnath dham बिना registration के जा सकते है?

नहीं, 2014 की बाढ़ के बाद आप बिना registration के केदारनाथ धाम नहीं जा सकते अब आपको केदारनाथ धाम की यात्रा के लिए registration करवाना अनिवार्य है।

उत्तराखंड के पंच केदार कौन से हैं?

उत्तराखंड के पंच केदार – केदारनाथ, रुद्रनाथ, कल्पेश्वर, मध्येश्वर, व तुंगनाथ है। केदारनाथ उत्तराखंड के पंच केदार व चार धामों मे से एक धाम है।

केदारनाथ मंदिर इतना प्रसिद्ध क्यों है?

केदारनाथ मंदिर भगवान शिव को समर्पित है तथा यह एक रमणीय पर्यटन स्थल की झलक प्रदान करता है केदारनाथ धाम एक बहुत ही शांत स्थल है जो शक्तिशाली पांडवों के साथ जुड़ा हुआ है केदारनाथ धाम की खुद एक सुंदर कथा है जो भगवान शिव को समर्पित है।

केदारनाथ की चढ़ाई कितने किलोमीटर की है?

आप 16 किलोमीटर की यात्रा को पैदल पूरा कर सकते हैं। गुप्तकाशी से सुबह 6 बजे निकलने पर 8 बजे से गौरीकुंड से चढ़ाई शुरू की जा सकती है। शाम तक आप केदारनाथ पहुंच सकते हैं।

मेरा नाम Dikshita Rawat है, और मैं उत्तराखंड की रहने वाली हूँ। JankariUttarakhand.com Blog के माध्यम से आप लोग उत्तराखंड से जुड़ी सारी जानकारी प्राप्त कर पाएंगे तथा उत्तराखंड की संस्कृति को और अच्छे से समझ पायेंगे।

1 thought on “Kedarnath Dham | केदारनाथ धाम”

Leave a Comment