पहाड़ों की रानी-मसूरी | Mussoorie-Uttarakhand-2024

Mussoorie (मसूरी) उत्तराखंड का बहुत ही खूबसूरत हिल स्टेशन है और दिल्ली से लगभग 300 किमी दूर है। इसलिए यह जगह दिल्ली वालों के लिए Weekend Spot है। मसूरी को पहाड़ों की रानी के रूप में भी जाना जाता है। जहाँ आप बहुत सी जगहों का पता लगा सकते हैं और यह

यह उत्तराखंड का बहुत ही खूबसूरत हिल स्टेशन है और दिल्ली से लगभग 300 किमी दूर है। इसलिए यह जगह दिल्ली वालों के लिए वीकेंड स्पॉट है।

आपको हम इस blog के माध्यम से मसूरी यात्रा जैसे होटल, भोजन, परिवहन और हर छोटी-छोटी जानकारी के बारे में मार्गदर्शन करेंगे, जो आपकी यात्रा को आसान बनाने में मदद करेगा।

यह उत्तराखंड राज्य में स्थित है और पहाड़ियों की रानी के रूप में जाना जाता है। उत्तराखंड में एक famous हिल स्टेशन है। जो की family, couples आदि के घूमने के लिए एक perfect destination है।

यहाँ पे आप kempty fall (केंपटी फॉल), Dallai hills (दलाई हिल्स), mall road (मसूरी लेक माल रोड), Company garden (कंपनी गार्डन), Btta fall (भट्टा फॉल), आदि कई सारी जगह है Explore कर सकते हैं।

यहाँ पहुंचने के लिए आप उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में या तो फ्लाइट से आ सकते हैं, या तो ट्रेन से भी आ सकते हैं।

Mussoorie

देहरादून से Mussoorie केवल 32 km की दूरी पर स्थित है। देहरादून बस स्टेशन से आपको मसूरी के लिए बस मिल जाएगी जिस का न्यूनतम किराया लगभग ₹ 100 रहता है, और यह बस आपको लगभग 1 से डेढ़ घंटे में मसूरी पहुंचा देगी।

देहरादून आने के लिए आपको लगभग सभी राज्यों से ट्रेन मिल जाएगी और अगर आपको देहरादून तक ट्रेन नहीं मिल रही है तो आप हरिद्वार, ऋषिकेश तक भी ट्रेन में आ सकते हैं। Haridwar से मसूरी की दूरी लगभग 88 km है, और Rishikesh से मसूरी तक की दूरी लगभग 74 km है। आप टैक्सी से भी 1200 से 1500 रुपए में देहरादून से मसूरी में आ सकते हैं। टैक्सी से आने का यह फायदा है कि आप रास्ते में रुक रुक कर भी आ सकते हैं।

यहाँ आने का सबसे अच्छा समय April से June का माना जाता है। लेकिन आप Mussoorie, July से लेकर September को छोड़कर आप पूरे साल कभी भी मसूरी घूमने आ सकते हैं क्योंकि July से September के बीच में बरसात का मौसम रहता है। जिस वजह से उस समय Mussoorie आना थोड़ा मुश्किल हो सकता है। April से June तक के महीने को यहाँ का पीक सीजन माना जाता है। इस दौरान मसूरी में पर्यटकों की काफी भीड़ मौजूद होती है।

Hotels in Mussoorie

अगर बात करें Hotels की तो वह आपको सीजन के हिसाब से देखने को मिल जाएंगे off season में होटलों के rate काफी कम व peak season में hotels के रेट काफी अधिक देखने को मिल जाते हैं। अगर आप ऑफ सीजन में जा रहे हैं तो आपको होटल 700 से ₹ 800 तक में मिल जाएगा और वही अगर आप मसूरी पीक सीजन में जाए तो यही होटल आपको ₹ 1500 से ₹ 3000 तक के बीच में देखने को मिल जाएगा।

Mussoorie Travel Plan

यहाँ आप Taxi, Bike या Scooty, rent पर लेकर घूम सकते हैं। जिसमें Taxi का किराया 1500 से 2000 तक का व Bike और Scooty का किराया 800 से 1200 तक, 1 दिन के लिए मिल जाएगी।

जिसमें पेट्रोल डला कर मसूरी घूम सकते हैं। Scooty और Bike रेंटल शॉप आपको मसूरी या देहरादून में मिल जाएंगी।

Places to visit in Mussoorie

अगर आप बस से यहाँ आ रहे है तो आप अपना trip, Mall road (माल रोड) से शुरू कर सकते हैं। और अगर आप देहरादून से यहाँ तक आप टैक्सी में आ रहे है तो आप अपना trip, Btta Fall (भट्टा फॉल) से शुरू कर सकते हैं।

Which month is best to visit Mussoorie?

यहाँ आने का सबसे अच्छा समय April से June का माना जाता है। लेकिन आप यहाँ, July से लेकर September को छोड़कर आप पूरे साल कभी भी मसूरी घूमने आ सकते हैं क्योंकि July से September के बीच में बरसात का मौसम रहता है।

Why is Mussoorie famous?

Mussoorie (मसूरी) उत्तराखंड का बहुत ही खूबसूरत हिल स्टेशन है। मसूरी उत्तराखंड राज्य में स्थित है और पहाड़ियों की रानी के रूप में जाना जाता है। उत्तराखंड में एक famous हिल स्टेशन है। जो की family, couples आदि के घूमने के लिए एक perfect destination है।

Is there snowfall at Mussoorie?

Mussoorie में snowfall का महीना december से feburary का होता हैं।

Delhi to Mussoorie distance?

यह उत्तराखंड का बहुत ही खूबसूरत हिल स्टेशन है और दिल्ली से लगभग 300 किमी दूर है। इसलिए यह जगह दिल्ली वालों के लिए वीकेंड स्पॉट है।

What are the taxi rates from Dehradun to Mussoorie?

Dehradun में Taxi का किराया 1500 से 2000 तक का व Bike और Scooty का किराया 800 से 1200 तक, 1 दिन के लिए मिल जाएगी।

मेरा नाम Dikshita Rawat है, और मैं उत्तराखंड की रहने वाली हूँ। JankariUttarakhand.com Blog के माध्यम से आप लोग उत्तराखंड से जुड़ी सारी जानकारी प्राप्त कर पाएंगे तथा उत्तराखंड की संस्कृति को और अच्छे से समझ पायेंगे।

Leave a Comment